pravakta.com
गजल :गरीब का मुकद्दर - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
कभी गरीब प्याज ,गुड ,मिर्च से चने -बाजरे की रोटी खाता था । प्याज तो, कब का गायब हो गया था, उसकी थाली से ! गुड भी अब गायब हो गया है , उसकी थाली से