pravakta.com
गांधीगिरी सुनने में ही अच्छी, जीवन में ढालना मुश्किल - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
सिद्धार्थ शंकर गौतम वर्तमान पीढ़ी के लिए गांधी दर्शन और उनके आदर्शों पर चलना ठीक वैसा ही है जैसे नंगे पैर दहकते अंगारों पर चलना| चूंकि गांधी द्वारा दिखाया