pravakta.com
पड़ गये झूले,प्रियतम नहीं आये - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
आर के रस्तोगी पड़ गये झूले,प्रियतम नहीं आये कू कू करे कोयल,मन को न भाये मन मोरा नाचे,ये किसको बुलाये जिसकी थी प्रतीक्षा,वो नहीं आये घिर घिर बदरवा,तन को