pravakta.com
एक थी माया .............!!! - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
:: १ ::: मैं सर झुका कर उस वक़्त बिक्री का हिसाब लिख रहा था कि उसकी धीमी आवाज सुनाई दी, "अभय, खाना खा लो" ,मैंने सर उठा कर उसकी तरफ देखा, मैंने