pravakta.com
गाली मत देना   - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
संजय चाणक्य ‘‘राजनीति घर-घर घुसी,कर डाला विखराव। टुकड़ों में आगंन बटा, किए दिलों में घांव।।’’ आप सबसे माफी का तलबगार हू। सोचता हू अपने कटु शब्दों से आपके