pravakta.com
देश को गुमराह करने की कोशिश न करें! - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
आज समाज में सर्वत्र नये-नये विवादों को जन्म मिलता जा रहा है। देखा जाये तो जो-जो वाद आज प्रचारित व प्रसारित हो रहे हैं, वह सत्यता में वाद नहीं है, वह तो