pravakta.com
मरी हुई संवेदना - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
मर चुकी हैं संवेदना नेताओं की शिक्षकों की और चिकित्सकों की भी, साहित्यकारों की जो सिर्फ व्यापारी है, जिनकी नहीं मरी हैं उनको मारने की कोशिश जारी है