pravakta.com
जारी है हिन्दी की सहजता को नष्ट करने की साजिश - चिन्मय मिश्र - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
यह लेख उस प्रवृत्ति पर चोट है जो कि हिंदी को एक दोयम दर्जे की नई भाषा मानती है और हिंदी की शब्दावली विकसित करने के लिए अंग्रेजी को आधार बनाना चाहती है।