pravakta.com
आओ . आंदोलन - आंदोलन खेलें.!! - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
तारकेश कुमार ओझा आपका सोचना लाजिमी है कि भला आंदोलन से खेल का क्या वास्ता। देश ही नहीं बल्कि दुनिया में जनांदोलनों ने बड़े बड़े तानाशाहों को धूल में मिला