pravakta.com
छोड़ कर जगत के बंधन ! - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
छोड़ कर जगत के बंधन, परम गति ले के चल देंगे; एक दिन धरा से फुरके, महत आयाम छू लेंगे ! देख सबको सकेंगे हम, हमें कोई न देखेंगे; कर सके जो न हम रह कर, दूर जा