pravakta.com
बाल गीत/ क्षेत्रपालशर्मा - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
फूलों जैसे उठो खाट से बछड़ों जैसी भरो कुलांचे अलसाये मत रहो कभी भी थिरको एसे जग भी नांचे नेक भावना रखो हमेशा जियो कि जैसे चन्दा तारे एसे रहो कि तुम सब के