pravakta.com
चारों तरफ हैं रास्ते, हर रास्ते पे मोड़ है ! - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
चारों तरफ हैं रास्ते, हर रास्ते पे मोड़ है ! तुही बता ये जिन्दगी, जाना तुझे किस ओर है !! हर तरफ़ से आवाजें, कोलाहल और शोर है ! कुछ समझ आता नहीं,