pravakta.com
बजट पर किसान परिचर्चा - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
1-किसानों की व्यथा मैथिली शरण गुप्त ने किसानों की व्यथा इस प्रकार व्यक्त की है- हो जाए अच्छी फसल पर लाभ कृषकों को कहां खाते खवाई बीज ऋण से है रंगे रक्खे