pravakta.com
भाई के नाम पत्र - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
गंगानन्द झा कल की डाक से तुम्हारा पत्र मिला। मैं प्रतीक्षा कर रहा था। पता नहीं क्यों देर हुई। पर खैरियत से पहुँच गया, ग़नीमत है। तुम्हारा अवलोकन सही है कि