pravakta.com
टूटती परम्पराए बदलता समाज- Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
प्रदीप रावत किसी भी समाज का अतीत उसकी आने वाली पीढ़ी के लिए प्रेरणादायी रहता है। मुझे आज भी याद है बचपन में गाँव के बूढे लोग एक जगह पर इकठ्ठा होकर चर्चाएं