pravakta.com
कांग्रेस के मुंह पर न्यायालय का तमाचा - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
प्रवीण दुबे यह सच है कि भारत में बोलने और लिखने की सभी को छूट मिली हुई है। लेकिन इसका कदापि यह अर्थ नहीं लगाया जाना चाहिए कि कुछ भी बोला जाए और कुछ भी