pravakta.com
डरता है मन मेरा - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
डरता है मन मेरा कहीं हो न जाए तेरे भी जीवन में अंधेरा नाजों से पली थी मैं अपनी बगिया की कली थी एक दिन उस बगिया को छोड़ चली थी मैं नए सपनों को देख मचली थी