pravakta.com
सुबह की कालिमा -सुधीर मौर्य - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
अंकिता आज थोड़ा उलझन में है। वो जल्द से जल्द अपने रूम पर पहुँच जाना चाहती है। न जाने क्यूँ उसे लग रहा है, ऑटो काफी धीमे चल रहा है। वो ऑटो ड्राइवर को तेज़