pravakta.com
अकेला चना भी भाड़ फोड़ सकता है .... - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
(गुजरात की स्वर्ण जयंती पर विशेष) -वीरेन्द्र सिंह परिहार बहुत पुरानी कहावत है कि ''अकेला चना भाड़ नही फोड़ सकता।'' कहने का आशय यह कि एक नेता या शासक चाहे