jeevankasatya.com
धोखा | जीवन का सत्य
जो कार्य अपेक्षा के विपरीत किया जाए तथा हानिकारक हो वह धोखा कहलाता है । किसी की असावधानी का लाभ उठाकर अपना स्वार्थ सिद्ध करना धोखा है । किसी को भावनाओं के भंवर में फंसाकर स्वार्थ सिद्ध करना या किसी प्रकार का अनैतिक व नाजायज लाभ उठाना धोखा करना है । किसी का बौद्धिक शोषण …