whitecanvasblackmargins.com
~ शोरबा…
~ शोरबा… बचपन की हसीन यादों की खोल पोटली और आवाज़ कर के तोतली बैठे बैठे मुँह से निकल गया, ज़बान से फ़िसल गया….अम्मी आज शोरबा नहीं बनाया… रमज़ान बस मोड़ पर ही था, जब उसने मुँह मोड़ लिया थ…