whitecanvasblackmargins.com
~ क्रेज…
~ क्रेज… मेरे मुल्क में एक शहर है और शहर में एक मकान, उस मकान में एक जान, जान में एक रूह है बसी, उस रूह की ये व्यथा है… कैसे मैं ये विवरण करूँ, रात दिन बस तेरा ही स्मरण करूँ, स्तुति करू…