whitecanvasblackmargins.com
~ इत्तफ़ाक़…
पड़ गया मेरे आराम में आज फिर खलल पड़ गया, फिर बैठे बैठे हुआ खड़ा आज फिर मन बदल गया, चलने ही वाला था पर जैसे ही उठाया पहला कदम, पिछले वाला अगले वाले से बेवजह ही लड़ गया… नीली पतल…