whitecanvasblackmargins.com
~ ऐब…
~ ऐब… चलो आपबीती सुनाता हूँ तुम्हारा दिल बहलाता हूँ, ऐसे वैसे जला हूँ मैं तो थोड़ा तुम्हें भी जलाता हूँ… मेरे सपनों में रोज़ाना एक कली खिला है करती, तुम ज़रा मुस्कुराओ तो मैं इक गुलाब खि…