vikrantrajliwal.com
👥 एहसास ए पत्थर। With YouTube Link Video.
आज कल हम पत्थरों में रहते है, उजड़ा जो गुलिस्तां हमारा तो अब हम पथरो में रहते है। करते है मुलाकाते पथरो से अक्सर, खो गया जो जलसा हमारा तो अब हम मुलाकाते पथरो से करते है।। उम्मीद है शायद ये पत्थर कभी…