vikrantrajliwal.com
एक सत्य।
अपने भूतकाल में क्या क्या कुकर्म किए थे! यह इस संसार के लिए इतना अधिक महत्व नही रखता, जितना कि आपके वर्तमान काल मे किए गए सत्यकर्म। इसीलिए अपने भूतकाल की अज्ञानता को स्वीकारते हुए, जो मनुष्य अपने व…