vikrantrajliwal.com
एक अधूरी उड़ान
दिल ये दीवाने का अब क्यों धड़कना नही चाहता। ज़िन्दगी ये करीब से अब क्यों देखना नही चाहता।। उदास मन ये बेजान सी धड़कने है क्यों, अब ये दिवाना जिंदगी को अपनी क्यों जीना नही चाहता। हर लम्हा एक बेचैनी सी …