vikrantrajliwal.com
दिल से।
नही सोचा था एक रोज़ ए वक़्त वक़्त ऐसा भी आएगा। भूल के दिल धड़कनो को अपने बेहिंतिया तड़पायेगा।। ये तारीख़ अनहोनी कोई ये आसमां आज फट जाएगा। बरस रहे शोले याद कोई नाम बन्द जुबां पर आ जाएगा।। जला दिया अक्स ए …