vikrantrajliwal.com
❤ एक दर्द।
💦 दर्द ए दम जिंदगी से मिले जिंदगी को जितने भी, वो सब के सब सबक एक जिंदगी के बेदर्द से क्यों लगते है। मौसम उजड़ गए बहार के महकती फिज़ाओ से जितने भी, वो सब के सब साथ एक तड़प के अब भी साथ मेरे तड़पते रहते…