viewsfromtheleft.in
आओ कतले आम करें।
इतनी भी क्या बात बड़ी है मंदिर को तुड़वाना, मंदिर तो टूटती अाई है, मुश्किल है भूलवाना, अब राम ही है कोई रहीम तो नहीं जो घर की मांग करे घर ही तो है अब घर ही रखलो आओ कतले आम करें घर भी तो है वो उसीका…