uljheshabd.wordpress.com
लाल सलाम — अजीब सी क्रांति
साल के ऊँचे ऊँचे पेड़, उनमे लिपटी जंगली लताएं महुआ की मादक शुगंध, मतवाली जंगली अदायें तेंदू के पत्ते, खुखरी के छत्ते सरसर की आवाज जीवन का आगाज चिचियाते परिंदे हरे हरे फंदे धंसती हुई कोलतार की काली च…