tirchhispelling.wordpress.com
अपने अपने रामविलास- प्रणय कृष्ण
(“जो लोग कहते हैं किहिन्दुस्तान में महान और प्रचुर रचनाएँ नहीं हुईं, उन्हें निरुत्तर करने के लिए ‘रानी केतकी की कहानी’ जैसा पुराना उदहारण रखने के बजाय रामविलास शर्मा की सौ पुस्तके…