thekushofficial.wordpress.com
तपिश
तुम्हारी इबारत उस धीमी जली आग की तपिश सी है, जो इस सुन्न सर्द अंधेरी रात में मुझे जिंदा रखे हुए है। मगर न जाने क्यों…