swayamkatha.wordpress.com
गंगू दुलहिन
गंगू दुलहिन। हां यही नाम था उनका। रेलवे गंज हरदोई सराय के पीछे वाली गली और उसके बगल वाली गली दोनों में वे ही काम करती थीं। हमारी नानी जी के घर पर भी वही काम करती थीं। कई बार घर की चौखट पर खड़े होकर…