sunnymca.wordpress.com
सारी-सारी रात जागे
सारी-सारी रात जागे, तुमसे मुहब्बत की आग जागे, हूँ मैं दरिया खुद में लेकिन, तुमसे ही अब प्यास जागे, सारी-सारी रात जागे… मुझमें है जो ख़्वाब सारे, तुमसे ही अब मिलना चाहे, हूँ मैं खुद में ख़ल्क़त ल…