sunnymca.wordpress.com
हमसे देर हमारे जो चौकीदार आते है
हमसे देर हमारे जो चौकीदार आते है, वो आकर अपनी मुस्तैदियों के चर्चे चलाते है, आभार करूं या उपहास, उत्साही राहगीरों का, जो पथप्रदर्शक को ही ‘चले कैसे’ सीखाते है। ‘काम के चर्चे को&#8…