sunnymca.wordpress.com
कविता मेरे हर शिष्य के नाम
यह कविता मेरे हर शिष्य के नाम, मेरे भाव, मेरे शब्द आप तक पहुंचे तो सूचित करें, अपने विचार रखें। धन्यवाद! कोई कल्पित ख्वाब नहीं, न गुरु सम्मान का अभिलाषी हूँ, है तुम सबसे मेरा एक ही स्वार्थ, तुम्हार…