sunnymca.wordpress.com
मैं उनसा होना चाहता हूं
कुछ लोग मेरी मजबूरी है, कुछ लोगों की मैं मजबूरी हूँ, कुछ हुए अब तक मजबूर नहीं, मैं उनसा होना चाहता हूँ… कुछ को शोर शराबे की आदत, कुछ चापलूसी के नायक है, कुछ बचे है अब भी कर्मों के सिपाही, मिल…