sunnymca.wordpress.com
कोई करिश्मा तुझमें है
ऐसा क्यूं है कि जो खोया था कभी उसका अक्स तुझमें है, ये मुहब्बत की आदत मेरी है या कोई करिश्मा तुझमें है… -सन्नी कुमार ***************************************** क्या इंसान भी फलों सा होता है? ज…