sunnymca.wordpress.com
रूठे हुए थे जो ख्वाब
रूठे हुए थे जो ख्वाब कल तक, आज फिर से जगा रहे, छोड़ गए थे जो लम्हें साथ, आज वापिस बुला रहे……. Ruthe huye the jo khwab kal tak, aaj phir se jga rhe, Chhod gye the jo lamhein sath, aaj wap…