sunnymca.wordpress.com
आज कल बीमार हूँ
अपनी बातों को शब्दों में आज कहना नहीं आ रहा, अपनों से मिलकर आज नजरें मिलाना नहीं आ रहा, चुप तो हूँ आज पर आज कोई शांति नहीं है, आज आंसुओं से गम को धोना भी नहीं आ रहा। सोचता हूँ छोड़ दू अब लिखना अपनों…