sunnymca.wordpress.com
वो गुजरे ळम्हे मिल जाती है..
तुम्हे पाने की हसरत नहीं, तुम याद रखो ये हसरत है। तुम पास रहो ये चाह नहीं, तुम साथ रहो ये चाहत है। साथ मेरे सब अपने है, पर तुम भी कोइ गैर नहीं। सब जब मेरे साथ है, तुम क्यूं मेरे साथ नहीं। मेरा था ए…