sunnymca.wordpress.com
इस उम्मीद में अब चलता हूँ…
जो गुजरा आज तेरी गलियों से, तेरे होने का एहसास था, पर तुम मिली नहीं वहाँ, जहाँ तेरा आशियाँ था… ढेरों थे हसरत, कि मिलोगी तुम आज हमें, जो भी है जज्बात हमारे, बतला दूंगा आज तुम्हें… जो गुजरे तेरे चौखट…