sunnymca.wordpress.com
हर लब्ज में नाम तुम्हारा है..
सुबह की ओस में मैंने, तेरी छुअन को पाया है, शाम रंगीन आसमा में तेरी हलचल ही देखी है, इस रात की चांदनी तुम, तुमने ही इसे महकाया है, जब भी हुयी है ये आँखें बंद, इसने सपना तेरा ही सजाया है। तेरी नाराज…