sunnymca.wordpress.com
आ जाओ मिलने इक बार सही…
इससे पहली की टूट के बिखर जाऊं, बिन कहे ही मै, चुप हो जाऊ, आ जाओ मिलने इस दोस्त से, कि शायद फिर मै संभल जाऊं.. उलझा हूँ आज क्यूँ, किसको सुनाऊ, क्या गुज़री है दिल पे, किसको बताऊँ, आ जाओ मिलने इक बार …