sudhisudhi.com
तेरे करीब आने से
मैं खुद को भुल जाती हुं, तेरे करीब आने से की मैं मैं नहीं रहती, तेरे मुझको बुलाने पे मेरी आँखों की हया, ओर धड़कनों की सरगम कुछ गुनगुनाती है, तेरी सुरत दिखाने पे तलब मुझको युं तेरी है, की सीने से मैं…