sidhharth.com
शिकायतें
अजीब सी है यह दुनिया, कहते थे मुझे “तू है आने वाला कल”, पर मैं तो कल ही ना देख सका | घुटन सी हो रही है इस लकड़ी के डब्बे के उनदर, अम्मी अब्बू का दिल साथ लेकर, नाजाने क्यों गोलियाँ उतार …