seepiya.wordpress.com
कितने ही रंग भरो 
कितने ही रंग भरो कुछ बच ही जाता है कितने ही ख्वाब बुनो कुछ छूट ही जाता है जीवन है एक पहेली या फिर एक भूलभुलैया ढूढ़ने की कोशिश में कुछ हाथ न आता है मत मतलब ढूंढो तुम न मक़सद करो तलाश जितन…