sanwariwomen.wordpress.com
ओल्ड एड्ज होम यानी वृद्ध आश्रम – जरूरत या मजबूरी
हमारे माता-पिता दादा-दादी नाना-नानी सरीखे अनेक संबंध हमारी सामाजिक व्यवस्था के स्तंभ हैं, तथा इनका सानिध्य एक तरह से कवच के तरह है| ताउम्र अपने बच्चो पर सर्वस्व न्यौछावर करने वाले को उसके ही अंतिम …