sadheteenakshar.wordpress.com
नज़रें तुम्हारी बुरी और पर्दा मैं करूँ !
अभी अभी किसी ने कहा कि रेखा पार न करो अभी अभी किसी ने कहा कि यूँ सिंगार न करो किया है किसी और ने और जुर्माना मैं भरूँ नज़रें तुम्हारी बुरी और पर्दा मैं करूँ रेखा पार मैं करूंगी तो तुम रावण बनोगे चल…